हैं क़ुबूल शिकायतें हमें आपकी सारी,
लेकिन कहना तो थोड़ा मुस्कुरा कर कहना।

Hain qubool shikaayatein humein aapki saari,
Lekin kehna to thoda muskuraa kar kehna

हँसते रहो सदा हँसने में क्या ग़म है,
दुनिया में परेशानी किसको कम है,
ख़ुशी-ख़ुशी बिताओं यह ज़िन्दगी अपनी,
क्योंकि इसी का नाम तो कभी ख़ुशी कभी ग़म है।

Haste raho sada hasne mein kya gum hai,
Duniya mein pareshaani kisko kam hai,
Khushi khushi bitaao yeh zindagi apni,
Kyonki isi ka naam to kabhi khushi kabhi gum hai

zindagi gujaar doonga shayari

एक सांस भी नहीं ले पाता,
तुम्हारे ख्यालों के बिना,
और तुमने ये कैसे मान लिया,
मैं ज़िन्दगी गुजार दूंगा तुम्हारे बिना…

Ek saans bhi nahi le paata,
Tumhaare khayaalon ke bina,
Aur tumne ye kaise maan liya,
Main zindagi gujaar doonga tumhaare bina…

इस गांव के बादल तुम्हारी जुल्फों की तरह हैं,
ये आग लगाना जानते हैं, बुझाना नहीं।

Is gaaon ke baadam tumhaari julfon ki tarah hain,
Ye sirf aag lagaana jaante hain, bujhaana nahi…

वो हमें अपना रो-रोकर दर्द सुनाते रहे,
हमारी तन्हाईओं से अपनी नज़र चुराते रहे,
दे दिया हमें बेवफ़ा नाम उन्होंने,
क्योंकि हम अपना दर्द अपनी मुस्कराहट में छुपाते रहे।

Wo humein apna ro-rokar dard sunaate rahe,
Hamaari tanhaiyon se apni nazar churaate rahe,
De diya humein bewafa naam unhone,
Kyonki hum apna dard apni muskuraahat mein chhupaate rahe….

वो अक्सर मिला करते हैं कहानी बनकर,
जो दिल में बसे हैं मेरे निशानी बनकर,
जो रहते हैं हमेशा हमारी नज़रों में,
जाने क्यों निकल जाते हैं आँखों से वो पानी बनकर…

Wo aksar mila karte hain kahaan bankar,
Jo dil mein base hain mere nishaani bankar,
Ro rehte hain hamesha hamari nazron mein,
Jaane kyon nikal jaate hain aankhon se wo paani bankar…

कितना इश्क़ है तुमसे, कभी कोई सफाई नहीं दूंगा, साये की तरह दूँगा तुम्हारा साथ लेकिन दिखाई नहीं दूँगा..

Kitna ishq hai tumse, Kabhi koi safayi nahi doonga, Saaye ki tarah doonga tumhara saath lekin dikhaayi nahi doonga..

मत पूछना कभी दोबारा,
कि तुम मेरे क्या लगते हो,
जैसे दिल के लिए धड़कन जरूरी है
वैसे मेरी साँसों के लिए तुम जरूरी हो..

Mat poochhna kabhi dobara,
Ki tum mere kya lagte ho,
Jaise dil ke liye dhadkan jaroori hai,
Waise meri saanson ke liye tum jaroori hai…

काश कि तुम मेरी आँखों का आँसू बन सकते, मैं रोना छोड़ देता तुम्हे खोने के डर से…

Kaash ki tum meri aankhon ka aansoo ban sakte, Main rona chhod deta tumhe khone ke darr se…

नहीं जानता था कि प्यार क्या होता है, फिर तुम मिले और ज़िन्दगी इबादत बन गयी.

Nahi jaanta tha ki pyar kya hota hai, Fir tum mile aur zindagi ibaadat ban gayi..

उसकी तलाश में जब मैंने भटकना छोड़ दिया,
यादों में उनकी खोकर मैंने तड़पना छोड़ दिया,
वो आये तो सही लेकिन उस वक़्त,
जब इस दिल ने उनके लिए धड़कना छोड़ दिया…

Uski talaash mein jab maine bhatakna chhod diya,
Yaadon mein unki khokar maine tadapna chhod diya,
Wo aaye to sahi lekin us waqt,
Jab is din ne unke liye dhadakna chhod diya…

जाने कैसे समझाऊं तुम्हे मैं, कि तुम्हारे बिना ज़ी नहीं पाऊँगा, जो ना मिला तुम्हारा साथ मुझे, घुट-घुट कर मर जाऊंगा…

Jaine kaise samjhaau tumhe main, Ki tumhaare bina jee nahi paaunga, Jo naa mila tumhaara sath mujhe, Ghut-ghut kar mar jaaunga…

गुज़र गई वो तारों वाली सुनहरी रात, फिर याद आ गयी हमें तुम्हारी मीठी याद, है दुआ कि हर पल हो तुम्हारी खुशियों से मुलाक़ात, ख़ुदा करे हो मुस्कराहट के साथ तुम्हारे इस दिन की शुरुआत…

Gujar gai wo taaron wali sunehri raat, Fir yaad aa gayi humein tumhaari meeti yaad, Hai dua ki har pal ho tumhaari khusyion se mulakaat, Khuda kare ho muskuraahat ke saath tumhaare is din ki shuruaat…

झूठा लव और वफ़ा की कसमें,
साथ देने का वादा ,
कितना झूठ बोलती है दुनिया,
सिर्फ समय बिताने के लिए…

Jhootha love aur wafa ki kasme,
Saath dene ka waada,
Kitna jhooth bolti hai duniya,
Sirf samay bitaane ke liye…

View all sad shayari here

समय के साथ बदल जाओ,
या फिर समय बदलना सीख लो,
कभी भी किस्मत को मत कोसो,
हर हाल में संभलना सीख लो…

Samay ke saath badal jaao,
Ya fir samay badalna seekh lo,
Kabhi bhi kismat ko mat koso tum,
Har haal mein sambhalna seekh lo…

कौन कहता है कि वो ख़ुश हैं बहुत हमारे बिना,
जरा एक बार उनके सामने हमारा नाम पुकार कर तो देखिये।

Kaun kehta hai ki wo khush hain bahut hamaare bina,
Jara ek baar unke saamne hamara naam pukaar kar to dekhiye…

जिसके मुक़द्दर में ही हो दुनियावालों की ठोकरें,
उस बदनसीब से क्या नसीब की बात करें

Jiske muqaddar mein hi ho duniyawalon ki thokrein,
Us badnaseeb se kya naseeb ki baatein karein…

नसीहतें तो अच्छी देतें हैं इस दुनियाँ के लोग,
बशर्ते दर्द किसी ग़ैर का दिया हो…

Naseehatein to achchi dete hain is duniya ke log,
Bashrte dard kisi gair ka diya ho…

बिखरे हुए ख़्वाबों और रूठे हुए अपनों ने मुझे उदास कर दिया,
वर्ना दुनियावाले रोज मुझसे मेरे मुस्कुराने की वजह पूछते थे।

Bikhre huye khwaabon aur roothe huye apno ne mujhe udaas kar diya,
Warnaa duniyaawale roj mujhse mere muskuraane ki vajah poochte the…

नदी के किनारों जैसी लिख जी उस रब्ब ने किस्मत हमारी,
ना लिखा कभी एक होना और ना लिखी जुदाई हमारी

Nadi ke kinaaron jaisi likh di hai us rabb ne kismat hamaari,
Naa likha kabhi ek hona aur naa hi likhi judaayi hamaari…

इस दुनिया की भीड़ में कोई भी किसी का नहीं हो पाता है,
पैसे की क्या बात करें इंसान भी यहाँ बिक जाता है।

Is duniya ki bheed mein koi bhi kisi ka nahi ho paata hai,
Paise ki kya baat karein insaan bhi yahan bik jaata hai…

जाने क्यों मुझे रोना नहीं आता, जाने क्यों अपना दर्द-ए-दिल बताया नहीं जाता,
लोग अक्सर साथ छोड़ देते हैं मेरा बीच राह में, शायद मुझे ही रिश्ते निभाना नहीं आता।

Jaane kyon mujhe rona nahi aata, jaane kyon apna dard-e-dil bataana nahi aata,
Log aksar saath chhod dete hain mera beech raat mein, shaayad mujhe hi rishte nibhaana nahi aata..

काश कि आप यह समझ सकते कि इस कम्बखत काश से रोजाना कितना लड़ते हैं हम।

Kaash ki aap yeh samajh sakte, ki is kambakhat kaash se rojana kitna ladte hain hum…

motivational hindi shayari

किसी ना किसी दिन तो पा ही लेंगे ए मंज़िल तुम्हे, ठोकरें ज़हर तो नहीं जो खाकर मर जाएंगे हम

Kisi naa kisi din to paa hi lenge e manzil tumhe, thokrein zahar to nahi jo khaakar mar jaayenge hum…

मिल जाओ किसी रोज़ तो तेरी रूह में उतर जाएंगे हम,
बस जाऊँगा ऐसे आँखों में कि किसी और को नज़र ना आएंगे हम,
चाहकर भी कोई छू ना पायेगा हमें,
है बस यही गुजारिश की तेरी बाहों में बिखर जाए हम

Mil jaao kisi roj to teri rooh mein utar jaayenge hum,
Bus jaaunga aise aankhon mein ki kisi aur ko nazar naa aayenge hum,
Chaahkar bhi koi chhoo naa payega humein,
Hai bus yahi gujaarish ki teri baahon mein bikhar jaaye hum..

शायरी

शायरी भावनाओं के धागे में पिरोई हुई कुछ अल्फ़ाज़ों का संगम होती है। इसके जरिये एक इंसान दुसरे इंसान तक अपने भावों को बेहद ख़ूबसूरत तरीके से आसानी से पंहुचा सकता है।

देखने में तो यह महज़ कुछ शब्दों की 2-4 लाइन्स होती हैं लेकिन अगर इन्हे समझा जाए तो इनके मतलब बहुत ही गहरे होते हैं।

Shayari bhaavnaao ke dhaage mein piroyi huyi kuchh alfaajo ka sangam hoti hai. Iske jariye ek insaan doosre insaan tak apne bhaavon ko behad khubsoorat tareeke aur aasani se pahucha sakt hai.

Dekhne mein to yeh mehaj kuchh shabdon ke 2-4 line hoti hain lekin agar inhe samjha jaaye to inke matlab bahut gehre hote hain.

Leave a comment